Delivery Trading Kya Hai और Intraday और Delivery Trading में क्या अंतर है ?

Delivery Trading Kya Hai In Hindi :- आप जानते हैं कि शेयर बाजार में Trading मुख्य रूप से दो तरह से की जाती है, Intraday और Delivery Trading। Intraday Trading के बारे में हम आपको पिछले आर्टिकल में बता चुके हैं। आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि Delivery Trading क्या है, Delivery Trading कैसे करें, Delivery Trading में लगने वाली फीस, Delivery Trading के फायदे और नुकसान और Delivery Trading और Intraday Trading में क्या अंतर है।

अगर आप शेयर बाजार में पैसा लगाना चाहते हैं तो आपको इससे जुड़ी सभी शर्तों के बारे में भी पता होना चाहिए। Delivery Trading के बारे में जानना हर निवेशक के लिए बहुत जरूरी है क्योंकि इसकी मदद से आप कम जोखिम के साथ अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

हमने इस लेख में आपको Delivery Trading के बारे में पूरी जानकारी देने की पूरी कोशिश की है ताकि आपके दिमाग से Delivery Trading से संबंधित सभी भ्रम दूर हो सकें। तो आइए इस लेख की शुरुआत करते हैं और विस्तार से जानते हैं कि Delivery Trading क्या है।

Delivery Trading Kya Hai In Hindi

Intraday Trading में, हमने सीखा था कि शेयरों की खरीद और बिक्री एक ही दिन में (शेयर बाजार के खुलने से लेकर बंद होने तक) करनी होती है, लेकिन Delivery Trading Intraday से बहुत अलग होती है। Delivery Trading में निवेशक अपने द्वारा खरीदे गए शेयरों को कभी भी बेच सकता है, शेयरों को बेचने की कोई समय सीमा नहीं होती है।

जब निवेशक Delivery Trading के तहत शेयर बाजार से शेयर खरीदते हैं, तो वे किसी भी समय के लिए अपने Demat खाते में शेयर रख सकते हैं। निवेशक चाहें तो खरीदारी के दूसरे दिन या 10 साल बाद भी अपने शेयर बेच सकते हैं।

Delivery Trading उन निवेशकों के लिए सबसे अच्छा है जो Long Term Share Investment में विश्वास रखते हैं। Delivery Trading Intraday की तुलना में कम जोखिम वाली मानी जाती है। वारेन बफेट, राकेश झुनझुनवाला जैसे दुनिया के सबसे बड़े निवेशक केवल Delivery Trading पर ही भरोसा करते हैं।

Delivery Trading में शेयर खरीदने पर Broker द्वारा किसी भी तरह का कोई मार्जिन नहीं दिया जाता है, हमें शेयरों को उसी कीमत पर खरीदना होता है, जिस कीमत पर उसकी वास्तविक कीमत होती है। Delivery Trading करने के लिए निवेशक के पास पर्याप्त फंड होना चाहिए ताकि उसे शेयर खरीदने और बेचने में कोई परेशानी ना हो।

सीधे शब्दों में कहें तो Delivery Trading एक ऐसी Trading है जिसके जरिए निवेशक शेयर बाजार में लंबी अवधि के लिए अपना पैसा लगा सकता है। इसमें यह पूरी तरह से निवेशक पर निर्भर करता है कि वह अपने शेयर कब बेचना चाहता है।

Delivery Trading के नियम

Delivery Trading के कुछ नियम भी होते हैं, जिनके बारे में एक निवेशक को जानना बहुत जरूरी है –

  • Delivery Trading में आप खरीदे गए शेयरों को लंबे समय तक होल्ड कर सकते हैं।
  • Delivery Trading के लिए Demat Account होना आवश्यक है।
  • Delivery Trading में, निवेशक को शेयर खरीदने के लिए पूरी राशि का भुगतान करना होता है।
  • Delivery Trading में कोई मार्जिन नहीं मिलता, निवेशक को एक निश्चित कीमत पर शेयर खरीदना होता है।

Delivery Trading कैसे करें ?

अगर आप शेयर बाजार में लंबे समय के लिए निवेश करना चाहते हैं तो Delivery Trading आपके लिए सबसे बेहतर है। Delivery Trading से आप लंबे समय के बाद बहुत अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

Delivery Trading करने के लिए आपको Demat Account की जरूरत होती है, आप Full Service Broker या Discount Broker से अपना Demat Account खुलवा सकते हैं।

अगर आपके पास बजट कम है तो आप अपना Demat Account Discount Broker से ही खोल सकते हैं। कुछ Discount Broker भी आपका Demat Account मुफ्त में खुलवाते हैं।

Demat Accountखोलने के बाद, आप Broker की आधिकारिक वेबसाइट या मोबाइल एप्लिकेशन से Trading शुरू कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले आपको Delivery Trading का चयन करना होगा और फिर अपनी समझ के अनुसार आपको कंपनी के शेयर खरीदने होंगे और शेयरों को अपने Demat खाते में रखना होगा। जब आपको लगे कि शेयर बेचने का यह सही समय है तो आप शेयर बेचकर अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

निम्नलिखित कुछ बेहतरीन Discount Broker हैं जहां से आप अपना Demat Account खोल सकते हैं –

  • अपस्टॉक्स ऐप
  • ग्रो ऐप
  • ज़ेरोधा ऐप
  • एंगलवन ऐप
  • 5पैसा ऐप

Delivery Trading टिप्स

अगर आप शेयर बाजार में नए निवेशक हैं तो Delivery Trading करते समय आप निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैं, जिससे आपको लंबी अवधि में लाभ मिलने की संभावना अधिक रहेगी।

  • Delivery Trading में किसी भी कंपनी में निवेश करने से पहले, विभिन्न स्रोतों से कंपनी के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें और उन्हें अच्छी तरह से जांच लें।
  • शेयर बेचने के लिए सही समय का इंतजार करें, जल्दबाजी में कोई फैसला न लें।
  • Delivery Trading में हमेशा विभिन्न कंपनियों के शेयरों में निवेश करने की सलाह दी जाती है क्योंकि शेयरों और फंडों में विविधता लाने से जोखिम की संभावना कम हो जाती है।
  • Delivery Trading करने के लिए निवेशक के खाते में पर्याप्त धनराशि होनी चाहिए ताकि उसे शेयर खरीदने और बेचने में कोई समस्या न हो।
  • Delivery Trading में यह भी सलाह दी जाती है कि स्टॉप लॉस टारगेट भी सेट करना चाहिए ताकि ज्यादा नुकसान न हो।
  • अपना सारा पैसा शेयरों में निवेश न करें। यह सलाह दी जाती है कि निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो का केवल 10 प्रतिशत ही निवेश करना चाहिए।

Delivery Trading Charge

अगर आप Delivery Trading करना चाहते हैं तो आपको इसमें लगने वाले चार्ज के बारे में भी पता होना चाहिए। तो आइए जानते हैं Delivery Trading में क्या चार्जेज लगते हैं –

  • अधिकांश Broker Delivery Trading में किसी प्रकार का ब्रोकरेज नहीं लेते हैं लेकिन कुछ Broker Delivery Trading में भी ब्रोकरेज का कुछ प्रतिशत चार्ज करते हैं।
  • एक GST शुल्क है जो सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं पर लगाया जाता है और Broker के साथ लेनदेन पर भी GST शुल्क लगाया जाता है।
  • Delivery Trading में सेबी द्वारा शुल्क भी लगाया जाता है।
  • Delivery Trading में एसटीटी, सीटीटी और लेनदेन शुल्क भी लगाया जाता है।

Delivery Trading के लाभ

Delivery Trading के फायदे इस प्रकार हैं –

  • Delivery Trading में आप अपना पैसा शेयर बाजार में लंबी अवधि के लिए निवेश कर सकते हैं।
  • Delivery Trading में, निवेशक सही समय के लिए शेयरों को होल्ड कर सकता है।
  • अधिकांश Broker Delivery Trading के लिए कोई ब्रोकरेज शुल्क नहीं लेते हैं।
  • Delivery Trading में कम जोखिम होता है।
  • Delivery Trading में, निवेशक अपने सभी शेयरों का मालिक होता है, इसलिए उसे कंपनी से बोनस भी मिलता है।
  • Delivery Trading अधिक लाभदायक है क्योंकि निवेशक लंबी अवधि के लिए शेयर रखते हैं और कंपनी से बोनस भी प्राप्त करते हैं।

Delivery Trading का नुकसान

Delivery Trading के कुछ नुकसान भी हैं जैसे –

  • Delivery Trading करने के लिए निवेशक के पास पर्याप्त फंड होना चाहिए, तभी वह लंबे समय के लिए निवेश कर सकता है।
  • Delivery Trading में कोई मार्जिन नहीं मिलता, शेयर खरीदने के लिए निवेशक को पूरा भुगतान करना पड़ता है।
  • लंबे समय तक निवेश करने पर अच्छा रिटर्न मिलने की कोई गारंटी नहीं है।
  • Delivery Trading में, निवेशक को धैर्य रखना होगा और शेयरों को बेचने के लिए सही समय का इंतजार करना होगा।

Intraday Trading और Delivery Trading के बीच अंतर

हमने आपको नीचे टेबल के जरिए Intraday और Delivery में अंतर बताया है –

Intradayऔर वितरण के बीच का अंतर को हमने नीचे सारणी के द्वारा आपको बताया है –

Intraday Trading (Intraday) Delivery Trading (वितरण)
Intraday Trading में आपको एक ही दिन के अन्दर शेयर को खरीदना और बेचना होता है तथा बाजार बंद होने तक सभी ट्रेड पूरी करनी होती है. Delivery Trading में आप शेयर को लम्बे समय के लिए अपने पास रख सकते हो, और जब आपको उचित समय लगे तभी बेच सकते हो.
Intraday Trading सुबह 9:15 से शाम को 3:30 तक होती है. Delivery Trading में आप कभी भी अपने द्वारा ख़रीदे शेयर बेच सकते हो. चाहे आप 2 दिन बाद बेच दो या फिर 20 साल बाद.
बिना Demat Account के भी आप Intraday Trading कर सकते हो. बस आपको एक Trading Account की जरुरत होगी. Delivery Trading के लिएTrading Accountके साथ Demat Account की भी जरुरत होती है.
Intraday Trading में शेयर पर मार्जिन भी मिलता है जिससे आप शेयर को उसके वास्तविक कीमत से कम दाम पर खरीद सकते हो. Delivery Trading में शेयर को खरीदने पर कोई मार्जिन नहीं मिलता है. शेयर खरीदने के लिए आपको पुरे पैसे चुकाने होते हैं.
Intraday Trading में जोखिम अधिक रहता है. Delivery Trading में जोखिम कम रहता है.
Intraday Trading में कम्पनी के द्वारा कोई बोनस नहीं मिलता है. Delivery Trading में लम्बे समय के लिए शेयर Hold करने के कारण कम्पनी के द्वारा बोनस भी मिलता है
बहुत कम लोग ही Intraday से पैसे कमा पाते हैं. अधिकतर लोग Delivery Trading से पैसे कमाते हैं

(Difference Between Intraday And Delivery In Hindi)

Delivery Trading अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Delivery Trading क्या है?

ऐसी Trading जिसमें निवेशक अपने शेयरों को लंबे समय तक अपने पास रख सकते हैं, Delivery Trading कहलाती है।

Intraday और Delivery Trading में क्या अंतर है?

Intraday Trading में निवेशक को एक दिन के भीतर ट्रेड पूरा करना होता है, जबकि Delivery Trading में निवेशक जब चाहे अपने शेयर बेच सकता है।

Conclusion : Delivery Trading Kya Hai In Hindi 

इस आर्टिकल में हमने आपको Delivery Trading Kya Hai In Hindi के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, ताकि आपको Delivery Trading में मदद मिल सके। अगर आप लंबे समय के लिए पैसा लगाना चाहते हैं तो Delivery Trading आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है क्योंकि इसमें जोखिम कम होता है। अगर आपमें धैर्य है तो आप Delivery Trading से भी अच्छी कमाई कर सकते हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि Delivery Trading Kya Hai In Hindi इस लेख में आपको Delivery Trading के बारे में समझ आ गया होगा, अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें।

Spread the love

Leave a Comment