Stock Exchange Kya Hai In Hindi और यह कैसे काम करता है? 2023

Stock Exchange Kya Hai In Hindi: आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको Stock Market के Stock Exchange के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। इस लेख में आप जानेंगे कि Stock Exchange क्या है, Stock Exchange कैसे काम करता है, भारत के प्रमुख Stock Exchange कौन-कौन से हैं और Stock Exchange का क्या काम है।

Stock Exchange एक संगठित Market है, जहां खरीदार और विक्रेता हर समय उपलब्ध रहते हैं। कई कंपनियां Stock Exchange में सूचीबद्ध हैं और निवेशक कंपनियों के शेयरों या प्रतिभूतियों में निवेश कर सकते हैं। Stock Exchange के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें, क्योंकि इसमें आपको Stock Exchange से संबंधित कई प्रकार की जानकारी मिल जाएगी।

तो चलिए बिना समय गवाए इस लेख की शुरुआत करते हैं – Stock Exchange Kya Hai In Hindi 

Stock Exchange Kya Hai In Hindi

Stock Exchange दो शब्दों से मिलकर बना है एक Stock और दूसरा Exchange। किसी कंपनी के Stock या बॉन्ड को Stock कहा जाता है और Exchange का मतलब खरीदना और बेचना होता है। Stock Exchange को इस प्रकार परिभाषित किया जा सकता है।

Stock Exchange एक ऐसा स्थान है जहां निवेशक या व्यापारी Stock, बॉन्ड या सरकारी प्रतिभूतियां खरीदते या बेचते हैं।

निवेशक केवल उन्हीं कंपनियों के Stock खरीद या बेच सकते हैं जो Stock Exchange में सूचीबद्ध हैं। SEBI Stock Exchange का नियामक है। Stock Exchange SEBI के नियमों के तहत ही काम करते हैं।

जब किसी कंपनी को फंड जुटाने के लिए Stock Market से पैसा जुटाना होता है तो सबसे पहले कंपनी को खुद को Stock Exchange में लिस्ट कराना होता है ताकि निवेशक कंपनी के शेयरों में निवेश कर सकें।

जब कंपनी पहली बार अपने शेयरों को Stock Market में लाती है तो उसे IPO (इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग) कहा जाता है। Stock Exchange में शेयरों के अलावा बांड, म्युचुअल फंड, सरकारी प्रतिभूतियों आदि में भी ट्रेडिंग की जाती है।

एक निवेशक सीधे Stock Exchange से Stock नहीं खरीद सकता। Stock खरीदने के लिए निवेशक को एक Broker के पास अपना डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना पड़ता है, जिसके जरिए निवेशक Stock Market में ट्रेडिंग कर सकता है। सभी Stock Broker Stock Exchange के सदस्य होते हैं।

भारत में Stock Exchange का इतिहास

दुनिया का पहला Stock Exchange 1602 में नीदरलैंड में डच ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा स्थापित किया गया था। आज इसे यूरोनेक्स्ट एम्स्टर्डम Stock Exchange के नाम से जाना जाता है। यह दुनिया का सबसे पुराना Stock Exchange है।

भारत की बात करें तो भारत का सबसे पुराना Stock Exchange Bombay Stock Exchange है, जिसकी स्थापना 1875 में मुंबई में हुई थी। BSE पूरे एशिया में सबसे पुराना Stock Exchange भी है।

आज के समय में Stock Exchange इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम से होता है, लेकिन पहले के समय में जब इंटरनेट नहीं था तो Stock Exchange कागज के माध्यम से होता था. अगर कोई निवेशक किसी कंपनी के Stock खरीदता था तो उसे एक सर्टिफिकेट मिलता था जो इस बात का सबूत होता था कि निवेशक के पास कंपनी के Stock हैं।

हालांकि Stock Exchange में पेपर वर्क करने में करीब 6 महीने लग जाते थे, इसलिए इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम शुरू किया गया। अब Stock Exchange का सारा काम कंप्यूटराइज्ड हो गया है।

Stock Exchange के कम्प्यूटरीकरण के साथ, बहुत से लोगों ने Stock Market में निवेश करना शुरू कर दिया, क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली कागज की तुलना में अधिक सुरक्षित है।

Stock Exchange कैसे काम करता है ?

Stock Exchange निवेशक और कंपनी के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करता है। जब कंपनी को धन जुटाने के लिए धन की आवश्यकता होती है, तो वह अपने शेयरों का कुछ प्रतिशत आम जनता के लिए सार्वजनिक कर देती है।

शेयरों को सार्वजनिक करने के लिए कंपनी को पहले खुद को Stock Exchange में लिस्ट कराना होता है, एक बार कंपनी Stock Exchange में लिस्ट हो जाने के बाद निवेशक Broker के जरिए कंपनी के शेयरों में ट्रेडिंग कर सकते हैं। जो दलाल है वह Stock Exchange का सदस्य है। एक निवेशक सीधे Stock Exchange से Stock नहीं खरीद सकता।

Stock Market में Stock खरीदने और बेचने के लिए बहुत से लोग हर समय उपलब्ध रहते हैं। जब कोई निवेशक Stock खरीदना या बेचना चाहता है, तो वह अपना ऑर्डर देता है। फिर Stock Exchange का ट्रेडिंग सिस्टम खरीदार और विक्रेता का मिलान करके ऑर्डर को स्वचालित रूप से पूरा करता है।

Stock Exchange में निवेश करने के तरीके

Stock Exchange में निवेश करने के दो तरीके हैं –

#1 – प्राइमरी मार्केट

जब कोई कंपनी पहली बार अपने Stock Market में लाती है तो उसे IPO कहते हैं। जब निवेशक कंपनी का IPO खरीदता है तो उसे प्राथमिक Market में खरीदना होता है। मतलब कि वह प्राइमरी मार्केट में किसी और निवेशक से कंपनी के Stock नहीं खरीद रहा है। प्राथमिक Market में ही Stock या प्रतिभूतियां बनाई जाती हैं।

#2 – सेकेंडरी मार्केट

वास्तव में द्वितीयक Market को ही Stock Market कहा जाता है। द्वितीयक Market में, निवेशक कंपनियों को शामिल किए बिना शेयरों में व्यापार करते हैं। यानी सेकेंडरी मार्केट एक ऐसा Market है जहां निवेशक सीधे कंपनी से Stock नहीं खरीदते हैं, उन्हें कंपनियों के Stock दूसरे निवेशकों से खरीदने पड़ते हैं।

भारत में Stock Exchange

भारत में मुख्य रूप से दो Stock Exchange हैं –

  • BSE (Bombay Stocks Exchange)
  • NSE (National Stocks Exchange)

#1 – BSE (Bombay Stock Exchange)

BSE यानी Bombay Stock Exchange न केवल भारत में बल्कि पूरे एशिया में सबसे पुराना Stock Exchange है। BSE दुनिया का दसवां सबसे बड़ा Stock Exchange है।

BSE की स्थापना 1875 में हुई थी। भारत की वित्तीय राजधानी कहे जाने वाले शहर मुंबई में एक बरगद के पेड़ के नीचे BSE की शुरुआत हुई थी। उस पेड़ के नीचे कुछ लोग जमा होकर Stock का लेन-देन करते थे। धीरे-धीरे लोगों की संख्या बढ़ने लगी, तब शेयरों के लेन-देन के लिए एक नया स्थान खोजा गया, जो दलाल स्ट्रीट के नाम से प्रसिद्ध हुआ। BSE की स्थापना प्रेमचंद रायचंद ने 300 लोगों के साथ की थी।

BSE का इंडेक्स सेंसेक्स है, जिसकी शुरुआत 1986 में हुई थी। BSE का प्रदर्शन सेंसेक्स से ही मापा जाता है। अगर सेंसेक्स बढ़ता है, तो इसका मतलब है कि BSE में पंजीकृत कंपनियों के Stock अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। और अगर सेंसेक्स घटता है, तो इसका मतलब है कि BSE में पंजीकृत कंपनियों के प्रदर्शन में गिरावट आई है। सेंसेक्स का प्रदर्शन BSE में पंजीकृत शीर्ष 30 कंपनियों के आधार पर निर्धारित होता है।

Bombay Stock Exchange के बारे में

मुख्य बिंदु विवरण
Full Form Bombay Stock Exchange
Location दलाल स्ट्रीट मुंबई, महाराष्ट्रा
स्थापना वर्ष 1875 में
सूचकांक (Benchmark Index) Sensex
वर्तमान चेयरमैन विक्रमजीत सेन
मुद्रा भारतीय रुपया (INR)

BSE In Hindi

#2 – NSE (National Stock Exchange)

National Stock Exchange भारत का सबसे बड़ा और दुनिया का 11वां Stock Exchange है जिसकी स्थापना 1992 में हुई थी। NSE के आगमन के साथ ही पेपर Exchange सिस्टम के स्थान पर इलेक्ट्रॉनिक Exchange सिस्टम शुरू हो गया।

1992 में Stock Market में पारदर्शिता लाने के लिए भारत सरकार ने SEBI (सिक्योरिटीज एंड Exchange बोर्ड ऑफ इंडिया) नामक एक संस्था की स्थापना की, जिसका मुख्य उद्देश्य निवेशकों के हितों की रक्षा करना और नए नियमों को लागू करके भारतीय Stock Market को विनियमित करना है। समय-समय पर नियम विकसित करना था।

NSE से पहले BSE में शेयरों का लेन-देन कागज के जरिए होता था जिसके कारण दस्तावेजों को निवेशकों तक पहुंचने में करीब 5-6 महीने लग जाते थे। SEBI ने 1992 में BSE को कम्प्यूटरीकृत करने का आग्रह किया लेकिन BSE के निवेशकों को यह पसंद नहीं आया, इसलिए एक और Stock Exchange NSE की स्थापना की गई।

1995 में BSE को अपनी कंपनियों को SEBI में सूचीबद्ध करवाना था। और अब ये दोनों Stock Exchange SEBI के नियमों के तहत काम करते हैं।

NSE ने 1996 में निफ्टी की शुरुआत की थी। निफ्टी एनएससी का बेंचमार्क इंडेक्स है जिसमें NSE में पंजीकृत शीर्ष 50 कंपनियों को सूचीबद्ध किया जाता है और उनकी कीमत के आधार पर NSE का मूल्य निर्धारित किया जाता है। अगर निफ्टी में गिरावट आती है तो NSE में भी गिरावट आएगी और अगर निफ्टी का प्रदर्शन अच्छा रहा तो NSE में भी तेजी आएगी।

NSE के बारे में

मुख्य बिंदु विवरण
Full Form National Stock Exchange
Location मुंबई, महाराष्ट्रा
स्थापना वर्ष 1992 में
सूचकांक (Benchmark Index) Nifty 50
वर्तमान चेयरमैन गिरीशचन्द्र चतुर्वेदी 
मुद्रा भारतीय रुपया (INR)

NSE In Hindi

Stock Exchange का कार्य

Stock Exchange के मुख्य कार्य निम्नलिखित हैं:

  • Stock Exchange सभी निवेशकों को Stock Market में निवेश करने की अनुमति देता है।
  • Stock Exchange पूंजी को तरलता प्रदान करते हैं। Stock Exchange में शेयरों को कभी भी खरीदा या बेचा जा सकता है।
  • Stock Exchange विभिन्न प्रतिभूतियों के लिए एक तैयार Market प्रदान करते हैं जिसमें निरंतरता होती है। Stock Exchange में हर समय विक्रेता और खरीदार मौजूद रहते हैं।
  • Stock Exchange शेयरों का उचित मूल्य निर्धारित करते हैं।
  • Stock Exchange किसी देश की आर्थिक प्रगति का पैमाना होते हैं क्योंकि देश की आर्थिक प्रगति का अंदाजा देश के Stock Exchange को देखकर लगाया जाता है।
इन्हें भी पढ़ें :- 

Stock Exchange से संबंधित सामान्य प्रश्न FAQ :- 

Q. Stock Exchange से आप क्या समझते हैं स्पष्ट कीजिए?

Stock Exchange एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां निवेशक Stock, बॉन्ड या सरकारी प्रतिभूतियां खरीदते और बेचते हैं।

Q. भारत में Stock Exchange के नाम क्या हैं?

भारत में दो प्रमुख Stock Exchange BSE (Bombay Stock Exchange) और NSE (National Stock Exchange) हैं।

Q. भारत का सबसे पुराना Stock Exchange कौन सा है?

भारत का सबसे पुराना Stock Exchange Bombay Stock Exchange है, जिसकी स्थापना 1875 में मुंबई में हुई थी।

Technofact Subscribe

Conclusion :- Stock Exchange Kya Hai In Hindi

इस लेख में हमने आपको Stock Exchange Kya Hai In Hindi और Stock Exchange के कार्यों के बारे में जानकारी दी है। साथ ही इस लेख में हमने आपको Stock Exchange कैसे काम करता है, भारत में Stock Exchange के प्रकार और Stock Exchange के इतिहास की जानकारी दी है। हमें पूरी उम्मीद है कि आपको हमारा लिखा हुआ यह लेख पसंद आया होगा।

Spread the love

2 thoughts on “Stock Exchange Kya Hai In Hindi और यह कैसे काम करता है? 2023”

Leave a Comment