TPIN Kya Hai और इसे कैसे जनरेट करें | TPIN Generate Kaise Kare ? 2023

आज के इस ब्लॉग पोस्ट में हम आपको TPIN Kya Hai In Hindi के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं। TPIN ऑनलाइन ट्रेडिंग को सुरक्षित बनाता है, जब आप ऑनलाइन शेयर बेचते हैं तो आपको TPIN की आवश्यकता होती है। इस लेख में आप जानेंगे कि TPIN क्या है, TPIN कैसे बनाते हैं और TPIN के क्या फायदे हैं।

जैसा कि आप जानते हैं कि आजकल इंटरनेट के माध्यम से हर काम ऑनलाइन किया जा रहा है और ऑनलाइन काम में धोखाधड़ी की संभावना हमेशा बनी रहती है। ऑनलाइन काम में होने वाले फ्रॉड से बचने के लिए हमें अलग-अलग कामों के लिए पिन मुहैया कराया जाता है। जैसे ATM से पैसे निकालने के लिए ATM पिन, ऑनलाइन पैसे भेजने के लिए एमपीआईएन। इसी तरह ऑनलाइन शेयर लेनदेन के लिए TPIN आवश्यक है।

तो चलिए आपका ज्यादा समय न लेते हुए आज का ब्लॉग पोस्ट शुरू करते हैं और विस्तार से जानते हैं कि TPIN क्या है।

TPIN का Full Form क्या है?

TPIN का Full Form “लेन-देन व्यक्तिगत पहचान संख्या” है, जिसे हिंदी में लेनदेन व्यक्तिगत पहचान संख्या के रूप में पढ़ा जाता है। हिंदी में TPIN का Full Form Transaction Personal Identification Number होता है।

  • अंग्रेजी में TPIN Full Form – Transaction Personal Identification Number
  • TPIN Full Form – लेनदेन व्यक्तिगत पहचान संख्या।

TPIN Kya Hai In Hindi (What is TPIN in Hindi)

TPIN शेयर बाजार में CDSL (सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज लिमिटेड) डिपॉजिटरी द्वारा प्रदान किया गया एक महत्वपूर्ण और गुप्त 6 अंकों का पिन है जिसका उपयोग केवल शेयर बाजार में ऑनलाइन ट्रेडिंग के लिए किया जाता है। TPIN आपके शेयरों और डेटा को सुरक्षा प्रदान करता है। TPIN के बिना आप ऑनलाइन शेयर नहीं बेच सकते।

TPIN का उपयोग ग्राहक प्रामाणिकता सत्यापन के लिए किया जाता है। TPIN की मदद से स्टॉक ब्रोकर ग्राहक के आदेश पर ग्राहक के डीमैट खाते से शेयरों की निकासी कर सकता है।

TPIN को आप MPIN की तरह ही समझ सकते हैं, जिस तरह बिना MPIN के आप मोबाइल के जरिए ऑनलाइन पैसे नहीं भेज सकते, उसी तरह TPIN के बिना आप अपने शेयर नहीं बेच सकते। TPIN केवल CDSL डिपॉजिटरी द्वारा प्रदान किया जाता है, इसलिए TPIN को CDSL TPIN भी कहा जाता है।

TPIN को शेयर बाजार नियामक SEBI ने 1 जून 2020 से ही लागू कर दिया है। TPIN से पहले पावर ऑफ अटॉर्नी (POA) जिसे बाद में TPIN में बदल दिया गया।

TPIN कैसे जनरेट करें ? (How to Generate TPIN in Hindi)

शेयर बाजार में ट्रेडिंग के लिए आपके पास TPIN होना जरूरी है, क्योंकि TPIN को 1 जून, 2020 से ऑनलाइन ट्रेडिंग के लिए लागू कर दिया गया है। TPIN उन सभी को भेज दिया गया है, जिनके पास डीमैट खाता है और उनका फोन नंबर या ईमेल पता खाते में पंजीकृत है। .

यदि किसी कारणवश आपको TPIN प्राप्त नहीं हुआ है, तो आप इसे CDSL की वेबसाइट से भी जनरेट कर सकते हैं।

TPIN ऑनलाइन जनरेट करने के लिए नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन करें।

  • सबसे पहले आपको इस लिंक – https://Edis.Cdlindia.Com/Home/Generatepin पर क्लिक करके वेबसाइट खोलनी है।
  • यहां आपको अपना बीओ आईडी (16 अंकों का डीमैट खाता नंबर) और पैन कार्ड नंबर दर्ज करने के लिए कहा जाएगा। इन दोनों को भरें और Next पर क्लिक करें।
  • आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP आएगा, उस OTP को आपको दर्ज करना है।
  • अब आपका 6 अंकों का पिन (TPIN) आपके मोबाइल नंबर पर SMS के जरिए भेजा जाएगा।

तो दोस्तों इस तरह आप बहुत ही आसानी से TPIN Generate कर सकते हैं।

TPIN कैसे बदलें ? (How to Change TPIN in Hindi)

यदि आप सुरक्षा कारणों से अपना TPIN बदलना चाहते हैं, तो आप इसे आसानी से बदल सकते हैं।

TPIN बदलने के लिए आप निम्न प्रक्रिया का पालन करें।

  • सबसे पहले इस लिंक पर क्लिक करके CDSL की वेबसाइट पर जाएं – https://Edis.Cdlindia.Com/Home/Changepin
  • यहां आपको अपना बीओ आईडी और पैन कार्ड नंबर भरना होगा और नेक्स्ट पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी पर एक OTP आएगा, OTP भरें और एंटर दबाएं।
  • इसके बाद आपको एक नया TPIN बनाना है, आप इसे अपनी इच्छानुसार बना सकते हैं।
  • TPIN बनाने के बाद, पुष्टि के लिए नया TPIN फिर से दर्ज करें। बस इतना करने से आपका TPIN सफलतापूर्वक बदल जाएगा।

TPIN के लाभ

TPIN के प्रत्येक निवेशक के लिए कई लाभ हैं। TPIN के कुछ प्रमुख लाभ निम्नलिखित हैं –

  • TPIN आपके डीमैट खाते और डेटा की सुरक्षा करता है।
  • डीमैट खाते से शेयर बेचने के लिए TPIN नियंत्रण सर्वोत्तम है।
  • TPIN का प्रबंधन CDSL डिपॉजिटरी द्वारा किया जाता है, इसलिए कोई ब्रोकर ग्राहक के साथ कोई धोखाधड़ी नहीं कर सकता है।
  • जरूरत पड़ने पर आप आसानी से TPIN भी बदल सकते हैं।

इन्हें भी पढ़े :- 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न :- TPIN Kya Hai In Hindi

Q. शेयर बाजार में TPIN कौन प्रदान करता है?

CDSL डिपॉजिटरी द्वारा प्रत्येक निवेशक को TPIN प्रदान किया जाता है। और इसे मैनेज करने का काम भी CDSL के द्वारा किया जाता है.

Q. TPIN कब लागू किया गया था?

शेयर बाजार नियामक सेबी द्वारा TPIN को 1 जून, 2020 से लागू किया गया था।

Q. CDSL TPIN में कितने अंक होते हैं?

CDSL TPIN 6 अंकों का होता है।

Q. क्या हम TPIN बदल सकते हैं?

हां, आप CDSL की आधिकारिक वेबसाइट से कभी भी TPIN बदल सकते हैं।

Q. TPIN का उपयोग क्या है?

TPIN का उपयोग ट्रेडिंग में हमारे शेयरों और संपत्तियों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए किया जाता है, यानी TPIN का उपयोग डीमैट खाते में ऑनलाइन ट्रेडिंग और शेयर बाजार में निवेश के लिए किया जाता है।

Technofact Subscribe

Conclusion – TPIN Kya Hai और इसे कैसे बनाये ?

आपको अपना TPIN हमेशा गुप्त और सुरक्षित रखना चाहिए, क्योंकि यदि आपका TPIN किसी गलत व्यक्ति के हाथ लग गया तो वह आपके डीमैट खाते तक पहुंच सकता है और आपके साथ धोखाधड़ी कर सकता है। अगर आपको कभी लगे कि किसी को आपका TPIN पता चल गया है तो इसे समय रहते बदल लें।

तो दोस्तों हमें यकीन है कि इस लेख को पढ़ने के बाद आप अच्छी तरह से समझ गए होंगे कि TPIN Kya Hai और TPIN कैसे बनाते हैं। अगर आपके मन में अभी भी इस लेख से जुड़ा कोई सवाल है तो बेझिझक आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं। हम आपके सवालों का जल्द से जल्द जवाब देने की कोशिश करेंगे। और अगर आपको इस article से कुछ सीखने को मिला हो तो इसे अपने दुसरे दोस्तों के साथ social media पर जरुर share करे.

Spread the love

Leave a Comment